Breaking…. मथुरा हत्या और डकैती कांड का खुलासा, सभी बदमाश पकडे गये

0
2022
हत्याकांड के आरोपी
हत्याकांड के आरोपी

Just abhi…..मथुरा में दो सर्राफा कारोबारियों की हत्या और लूट करने वाले शातिर बदमाश मुठभेड के बाद दबोचे गए। एक बदमाश को लगी गोली, सीसीटीवी फुटेज, फोन कॉल से पकडे शातिर, लूट का माल बरामद।
15 मई को मथुरा के होलीगेट के पास स्थित कोयला वाली गली में मयंक चेन्स पर बदमाशों ने धाबा बोला, ताबडतोड गोलियों की बौधार कर मयंक चेन्स के संचालक विकास अग्रवाल और डेम्यिपर नगर, मथुरा निवासी ज्वैलर मेघ अग्रवाल की हत्या कर दी थी। कैश और ज्वैलरी लूट कर बदमाश फरार हो गए थे। पुलिस को वारदात के सीसीटीवी फुटेज मिले थे, इसमें एक बदमाश का चेहरा दिखाई दे रहा था। मथुरा पुलिस ने राजस्थान पुलिस के साथ मिलकर बदमाशों की पहचान की।
कई घंटे चला आॅपरेशन, पकडे गए पांच बदमाश
मथुरा और राजस्थान पुलिस ने शुक्रवार रात को मथुरा के चौबे पाडा में आॅपरेशन शुरू किया, कई घंटे तक आॅपरेशन चला। इसके बाद पुलिस ने सरगना राकेश उर्फ रंगा पुत्र बालमुकंद चतुर्वेदी निवासी चौबे पाडा थाना मथुरा, नीरज, आयुष, कामेश, राकेश को दबोच लिया, इसमें से एक के गोली लगी है। इनके पास से पुलिस ने लूटी गई ज्वैलरी और कैश भी बरामद कर लिया है। पुलिस शातिरों से पूछताछ कर रही है।
5 दिन से बदमाश कर रहे थे रेकी
पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि सरगना राकेश उर्फ रंगा ने मयंक चेन्स पर लूट की साजिश रची थी। इसके लिए पांच दिन से रेकी कर रहे थे, बदमाश हर रोज शाम को पांच से सात बजे के बीच में मयंक चेन्स पर जाते थे, कितने लोग रहते हैं, कौन सी दुकानें बंद हो जाती हैं और भागने के रास्ते क्या हो सकते हैं, इसके लिए बदमाशों ने रेकी की।
सीसीटीवी और कॉल ट्रेस करने से पकडे गए बदमाश
लूट के बाद सीसीटीवी फुटेज पुलिस को मिली थी,इसमें एक शातिर दिखाई दे रहा था, अन्य शातिरो के चेहरे आधे ढके हुए थे। फोरेंसिक टीम की मदद से शातिरों को पहचाना गया, इसके बाद बदमाशों की कॉल डिटेल से पुलिस ने उन्हें ट्रेस कर लिया। रंगा का गिरोह मथुरा और राजस्थान में पहले भी कई लूट कर चुका है।

LEAVE A REPLY